सीतामढ़ी :- सरकारी पेड़ पर लगा ग्रहण, लकड़ी माफिया बेखौफ काट रहे है पेड़,

सीतामढ़ी :- सरकारी पेड़ पर लगा ग्रहण, लकड़ी माफिया बेखौफ काट रहे है पेड़,

-- बेख़ौफ़ तश्कर, कर रहे है मनमानी,

सागर कुमार, चम्पारण टुडे,, ब्यूरो प्रभारी, सीतामढ़ी :- 

सीतामढ़ी :- पर्यावरण संरक्षण को लेकर एक तरफ सरकार एनकेन तरीके अपनाकर जगह जगह पेड़ पौधे लगा रहे है। वही दूसरी तरफ पर्यावरण का दुशमन बने लोग चोरी छिपे उसी पेड़ को काट कर अपनी व्यवसाय में लगे है। जिसका जीता जागता उदाहरण जिले के मेजरगंज प्रखंड़ क्षेत्र से मिल रही है। जहां पर्यावरण संरक्षण को चुनौती देकर लकड़ी तश्कर बेख़ौफ़ सरकारी पेड़ों कटवा कर अपनी व्यवसाय में लगे हुए है। बुधवार की सुबह डुमरीकला पंचायत के हलिमपुर जगिरहा पथ में इस तरह की कारनामा से रूबरू होना पर। जहां सरकारी पेड़ केदार द्वारा बेखौफ कटवाते देखा गया। लकड़ी ठेकेदार का नाम स्थानीय लोगो ने भोला साह बताया है।जिसके द्वारा सड़क के किनारे सरकारी पेडों को कटबाते देखा गया है।

हलाकि स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी दी थी।पर अंचलाधिकारी का पद रिक्त होने के कारण मामला ठंढे बस्ते में डाल दिया गया है।न तो सूचना पर प्रसासन पहुँची न बन विभागकर्मी। वही सरकारी लकड़ी कटाने के संदर्भ में डुमरी कला निवासी भोला साह से पूछा गया तो उसने निर्भीक होकर बताया कि जिसके जमीन के सामने पेड़ है वही उसका उत्तराधिकारी होता है। चाहे पेड़ सरकारी ही क्यों न हो।इस संदर्भ में प्रभारी सीओ सह बीडीओ तरुण कुमार से जब पूछा गया तो उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कार्रवाई की बात कही। विदित हो कि सीमावर्ती क्षेत्र से जुड़े दर्जनों आरा मशीन संचालित है, जहाँ प्रतिदिन हजारो पेड़पौधों को कटकर पर्यावरण की धज्जियां उड़ाई जारही है।आश्चर्य है कि इस पर न बन विभाग का ध्यान है न जिला प्रसासन का।