गुजरात से प्रवासी श्रमिकों को लेकर स्पेशल ट्रेन सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पहुंची.

गुजरात से प्रवासी श्रमिकों को लेकर स्पेशल ट्रेन सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पहुंची.

विक्की कुमार सिंह, सीतामढ़ी। बुधवार की सुबह गुजरात से प्रवासी श्रमिकों को लेकर स्पेशल ट्रेन सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पहुंची. इसको लेकर जिला प्रशासन ने काफी व्यवस्था की है. गुजरात से आ रही इस विशेष ट्रेन में लगभग 1200 यात्री थे, जिनमें से 1075 यात्री सीतामढ़ी के हैं. 84 पूर्वी चंपारण एवं बाकी के पश्चिमी चंपारण के हैं. जिला प्रशासन द्वारा सभी लोगों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए 49 बसों की व्यवस्था की गई है. रेलवे स्टेशन परिसर में इस दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे.


यह भी पढ़े : जिलाधिकारी एस के अशोक ने पिपरा कोठी प्रखंड के मधु छपरा गांव में जीविका के द्वारा आयोजित पौधारोपण अभियान में सम्मिलित हुए..।


सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे लोगों को जिला प्रशासन द्वारा खाना एवं पानी की बोतल दी गई. उनके सामानों को सनेटाइज किया गया. स्टेशन पहुंचे लोगों को बस एक ही बात की शिकायत थी कि उनसे टिकट का पैसा लिया गया है. मीडियाकर्मियों के पूछे जाने पर श्रमिकों ने बताया कि उनसे 715 रुपए लिए गए. इसके अलावा कुछ ने रास्ते में कहीं भी खाना नहीं मिलने की भी शिकायत की. हालांकि लोग घर पहुंचने पर खुश दिखाई दिए. 


जिला प्रशासन ने सभी लोगों को बसों से उनके गंतव्य के लिए भेज दिया है. इसको लेकर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने व्यापक स्तर पर व्यवस्था की है. डीएम ने बताया कि आने वाले सभी प्रवासियों की सघन स्क्रीनिंग के साथ सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर बस के द्वारा उन्हें संबंधित क्वॉरेंटाइन कैंप में जिला प्रशासन पहुंचाएगा. शहर से सटे बरियारपुर उच्च विद्यालय में वाहन कोषांग बनाया गया है. डीडीसी प्रभात कुमार वाहन कोषांग के वरीय पदाधिकारी बनाए गए हैं.


यह भी पढ़े : कोरोना के खिलाफ़ जंग में सेना के रिटायर्ड चिकित्साकर्मी भी करेंगे सहयोग

डीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि पूरी सजगता के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का अनिवार्य रूप से पालन करते हुए सभी प्रवासियों को उनके संबंधित क्वॉरेंटाइन कैंप में भेजना सुनिश्चित करेंगे. जिला प्रशासन द्वारा बताया गया है कि जिले में पंचायत स्तर पर 1224 क्वॉरेंटाइन कैंप बनाए गए हैं. वहीं, प्रखंड स्तर पर 73 क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं. जिले में चार राहत आपदा केंद्र एवं सात सीमा राहत केंद्र बनाए गए हैं.

सीतामढ़ी जिले में तीन प्रखंडों के 20 वार्ड को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है. इनमें बोखरा प्रखंड में पांच, नानपुर प्रखंड में 14 एवं पुपरी प्रखंड में एक वार्ड कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है. सभी कंटेनमेंट जोन के 3248 परिवारों का सर्वेक्षण किया जा रहा है. सभी वार्डों को सैनिटाइज भी किया जा रहा है. लॉक डाउन में बिहार के बाहर अन्य राज्यों में फंसे 73506 श्रमिकों के खाते में अब तक राशि स्थानांतरित की जा चुकी है.


यह भी पढ़े : भाजपा नेता पंकज सिंह ने कोरोना को लेकर किया जागरूक

आपको बता दें कि सोमवार को सीतामढ़ी की डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा एवं एसपी अनिल कुमार ने जिले के कई अधिकारियों के साथ सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन परिसर का जायजा लिया था. जिला प्रशासन द्वारा बताया गया है कि लगभग 24 कोच वाली ट्रेन लोगों को लेकर सीतामढ़ी आ रही है. लोगों के आगमन से पूर्व सभी प्रकार की तैयारी पूरी की जा रही है ताकि लोगों को किसी तरह की समस्या ना हो.

इसके अलावा आपको यह भी बता दें कि सीतामढ़ी में अब तक कुल छह कोरोना के मामले सामने आ चुके हैं. इसमें से एक की मौत पटना में इलाज के दौरान हो गई थी, वह कैंसर से पीड़ित था. इसके अलावा एक 55 वर्षीय कैंसर पीड़ित महिला कोरोना से ठीक भी हो चुकी है. जिले में फिलहाल अभी चार कोरोना संक्रमित के मामले हैं. इन चारों का इलाज जारी है. डीएम के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग के डॉ रविंद्र कुमार मरीजों के परिजनों से समन्वय बनाए हुए हैं।


यह भी पढ़े : युवक को दूसरे की बीबी के साथ टिकटोक वीडियो बनाना पड़ा भारी, पति ने कर दी पिटाई, स्थिति हुई नाजुक