समस्पंतीपुर: चायत कबौलीराम के प्रांगण मे गायत्री महायज्ञ किया गया ।

समस्पंतीपुर: चायत कबौलीराम के प्रांगण मे गायत्री महायज्ञ किया गया ।

पूसा ।अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के निर्देशन में गृहे गृहे गायत्री महायज्ञ अभियान अंतर्गत गायत्री चेतना केंद्र मिल्की,पंचायत कबौलीराम के प्रांगण मे हवन यज्ञ किया गया जिसमे गायत्री मंत्र, महामृत्युंजय मंत्र और कोरोना से सुरक्षा हेतु मंत्र की आहूति दी गई । इस चेतना केंद्र के व्यवस्थापक रामेश्वर महतो बताए गए, माँ  गायत्री एवं परमपूज्य गुरूसत्ता से समस्त विश्व के मंगल-कल्याण हेतु सपरिवार प्रार्थना की गईं।


यह भी पढ़े : सुशांत के सुसाइड की खबर नहीं बर्दाश्त कर पाईं भाभी, डिप्रेशन के बाद मौत

केंद्र के गायत्री परिवार के साधक  जितेंद्र कुमार ने कहा की कोरोना वायरस से बचाव का एक प्रभावशाली उपाय - प्रतिदिन यज्ञ कोरोना वायरस या किसी भी अन्य प्रकार के विषाणुओं से बचाव और प्रभावित होने पर उपचार का प्रभावशाली उपाय है। इससे वातावरण शुद्ध होता है और जीवनी शक्ति बढ़ती है। अतः प्रतिदिन यज्ञ में, गाय के शुद्ध घी के साथ, न्यूनतम पाँच आहुतियाँ गायत्री महामंत्र और तीन आहुतियाँ महामृत्युञ्ज मंत्र की अवश्य दें ।

निम्न औषधियों को समान मात्रा में मिलाकर विशेष हवन सामग्री तैयार की जा सकती है। गिलोय, तुलसी, जटामांसी, हाउबर, नीम की पत्ती, नीम की छाल, कालमेघ, जायफल, जावित्री, आज्ञाघास, कड़वी बच, नागरमोथा, सुगंधबाला, लोंग, भीमसेनी कपूर, देवदारु, शीतल चीनी, सफेद चंदन, दारू हल्दी। सभी वस्तुएँ आसानी से बाजार में उपलब्ध हो जाती हैं।


यह भी पढ़े : वीआईपी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ने गिरफ़्तार छात्र नेता की रिहाई एवं दोषी स्वास्थ्य कर्मियों पर करवाई की मांग

हमारे ऋषियों ने महामृत्युंजय मंत्र को मृत संजीवनी महामंत्र कहा है। इसके जप से स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और अकाल मृत्यु का डर समाप्त हो जाता है । इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा भी राम मनोहर लोहिया अस्पताल, दिल्‍ली के मरीजों पर इसके प्रभाव के लिए शोधकार्य हुए हैं और अत्यंत प्रभावशाली परिणाम मिले हैं।

इस हवन यज्ञ में वीरेंद्र कुमार सिंह, नागेंद्र कुमार शिक्षक,पंचायत कबौलीराम के प्रांगण मे हवन यज्ञ किया गया जिसमे गायत रामदेव राय,सूर्य प्रकाश, सावित्री कुमारी, प्रांजल प्रकाश,अव्यक्त प्रकाश, रवि प्रकाश, सरिता कुमारी, शिवानी, तुलसी, सुनीता कुमारी, पिंकी देवी, शोभा कुमारी इत्यादि लोगों ने भाग लिए।


यह भी पढ़े : विशाखापट्टनम से मोतिहारी पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन में दिखे कम मजदूर, 6 बोगियां रही खाली