अयोध्या में श्री राम मंदिर की आधारशिला रखें जाने के दिन जनकपुर धाम जानकी मंदिर में दीपावली मानने की तैयरी,

अयोध्या में श्री राम मंदिर की आधारशिला रखें जाने के दिन जनकपुर धाम जानकी मंदिर में दीपावली मानने की तैयरी,

सागर कुमार,,


जानकी नवमी पर सुना रह गया माँ जानकी का दरबार, नहीं...

सीतामढ़ी :- पड़ोसी देश नेपाल स्थित जनकपुरधाम मां जानकी मंदिर के महंत राम स्वरूप दास 'वैष्णव, ने बीते दिन एक प्रेस वार्ता को संबोधित किए। इस दौरान उन्होंने कहा कि मै विभिन्न समाचार के माध्यम से नेपाल तथा भारत के ओ सभी श्रद्धालु से विनम्र आग्रह करता हूं।


लॉकडाउन में गुस्साएं पिता ने बेटी की गला दबा की हत्या

जिस दिन यानी 5 अगस्त 020 को मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की जनमभूमि अयोध्या में उनके मंदिर कि होने बली भूमि पूजन की रात निश्चित रूप से अपने अपने घरों के छत और दरवाजे पर दीप प्रज्ज्वलित करे। उन्होंने स्वर्ण अक्षरों में दर्ज होने वाले इस पावन दिन दीपावली मानने कि अनुरोध नेपाल के सभी श्री राम के श्रद्धालु देश वासियों से किया है।

इस दौरान उन्होंने कहा कि इस कोरोना रूपी महामारी की दौर में प्रभु श्री राम की नगरी अयोध्या जाने की सभी रास्ते मंद है। इस कारण संपन्न होने वाले विधान में भाग नहीं ले सकते। परन्तु उनके नगरी में होने वाली भव्य स्वागत को हम अहसास कर सकते है। उक्त दिन को अपने अपने दरवाजे पर दीप प्रज्ज्वलित करे खुशियां जरूर बांट सकते है।


अयोध्या में श्री राम मंदिर की आधारशिला रखें जाने के...

महंत श्री दास ने अयोध्या के वर्तमान राजनीतिक माहौल में शामिल हुए बिना सीता के ससुराल वालों को मिथिला और अवध के बीच की सांस्कृतिक कड़ी के रूप में दीपावली मानने की अपील की, जो प्राचीन काल से चली आ रही है।


सिमरौनगढ़ नगरपालिका क्षेत्र में राहत वितरण कार्य की...

उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के मंदिर का शिलान्यास पांच अगस्त 020 को अयोध्या में होने जा रही है। ऐतिहासिक साक्ष्यों के आधार पर इसे अवध और मिथिला के शाश्वत संबंधों के रूप में समझना चाहिए। उन्होंने जोड़ देते हुए कहा कि कोई भी इस पौराणिक मान्यता को समाप्त नहीं कर सकता है। अयोध्या मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की जन्मभूमि है तथा मिथिला की सरजमीं माता जानकी की जन्मभूमि है।


जनकपुर धाम नेपाल के न्यायाधीश को कोरोना संक्रमित होने...