नल जल योजना में मुखिया जी को चाहिए 10 प्रतिशत कमीशन, ऑडियो हुआ वायरल। मुखिया व वार्ड सदस्य के बीच कमीशन खोड़ी के खेल की खुली पोल

नल जल योजना में मुखिया जी को चाहिए 10 प्रतिशत कमीशन, ऑडियो हुआ वायरल। मुखिया व वार्ड सदस्य के बीच कमीशन खोड़ी के खेल की खुली पोल

सागर कुमार सीतामढ़ी,,


ग्यारह सौ 89 बोतल नेपाली शराब के साथ तीन कारोबारी...

  • मुख्यमंत्री के सात निश्चय योजना में कमीशन खोड़ी खोल रही पोल वायरल ऑडियो
  • मामला जिला मुख्यालय डुमरा प्रखंड अंतर्गत रामपुर परौरी पंचायत का, मुखिया ने किया इनकार

सीतामढ़ी : मुख्यमंत्री के सात निश्चय योजना की महत्वकांक्षी योजना नल जल भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती जा रही है। कहीं भी कायदे से यह योजना मूर्त रूप नहीं ले सकी है। जहां भी इसका काम हुआ है वहां बड़े पैमाने पर शिकायतें आम हैं। सीतामढ़ी के डुमरा प्रखंड क्षेत्र का एक ऑडियो तेजी से वायरल हो रहा है। उसमें किसी मुखिया के द्वारा महिला वार्ड सदस्य से फोन पर कमीशन की मांग की जा रही है। कमीशन की राशि चुकता नहीं करने पर वसूल कर लेने की धमकी भी दी जा रही है। चर्चा के मुताबिक यह ऑडियो रामपुर परौरी पंचायत का है।


रामगढ़वा : बीडीओ व थानाध्यक्ष ने बिना मास्क पहने लोगों...

ऑडियो में जिस वार्ड सदस्य की आवाज सुनी जा रही है उनका नाम गांधी देवी बताया गया है। जो वार्ड 17 की वार्ड सदस्य हैं। वहीं कमीशन की मांग करने वाले शख्स को वहां का मुखिया रामा शंकर दास बताया जाता है। हालांकि, मुखिया ने इस ऑडियो को ही गलत ठहरा दिया है। मुखिया का कहना है कि ऑडियो में आवाज उनकी आवाजा से मिलती-जुलती जरूर प्रतीत होती है लेकिन, वह आवाजा उनकी बिल्कुल भी नहीं है। बतौर मुखिया वह खुद भी हैरत में पड़ गए हैं और इसकी पड़ताल भी करा रहे हैं। बहरहाल, इस ऑडियो के वायरल होने के बाद नल जल योजना में धांधली व मनमानी की शिकायतों को बल जरूर मिलने लगा है।

गौरतलब है कि सात निश्चय के तहत नल का जल और गली-नाली का काम मुखिया से छीना जा चुका है। वार्ड सदस्य की देखरेख में उसका काम कराने का सरकार ने फैसला दिया है। नई व्यवस्था में वार्ड के विकास की शक्ति वार्ड सदस्य के हाथों में चले जाने की वजह से योजनाओं के चयन और राशि के खर्च को लेकर मुखिया के अधिकारों में कटौती हो गई है।


पूर्वी चम्पारण: कांग्रेस पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष...

आइए जाने ऑडियो में वार्तालाप के बारे में

मुखिया: हैलो, हिसाब-किताब का क्या हुआ? वार्ड सदस्य : घर के लोगों की तबियत खराब है। मुखिया: तबियत खराब होने से हिसाब-किताब का क्या लेना-देना है? वार्ड सदस्य : नली-गली का भुगतान नहीं हुआ। मुखिया: नल जल का हो गया न? हमको नल जल का हिसाब चाहिए। हमको नल जल का 10 फीसद कमीशन चाहिए। मुखिया: पांच फीसद हमको और पंचायत सचिव को पांच फीसद। वार्ड सदस्य : हमको घाटा लग गया है, कहां से दें। घरारी बेचकर दे दें क्या? मुखिया : घरारी बेचे या जेवर जो बेचना है बेचिए हमको कमीशन चाहिए। नागेंद्र जी के मिल पर सुबह आठ बजे आइए और वहां हिसाब चुकता करिए। वार्ड सदस्य : ठीक है तो नया व पुराना पंचायत समिति सदस्य व सभी 17 वार्ड सदस्य रहेंगे। मुखिया: नहीं वहां कोई नहीं रहेगा। वार्ड सदस्य : आपको कमीशन देने का आदेश नहीं है। मुखिया: सीधी बात करता हूं, कमीशन नहीं मिला तो जांच बैठवा दूंगा। वार्ड सदस्य : जांच बैठाइए चाहे जो मर्जी हो कराइए। पंचायती करनी है तो ब्लॉक में आइए।


रामगढ़वा : भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य बने अर्जुन...