सीतामढ़ी :- बच्चा चोर के अफवाह में तीन युवक की जमकर पिटाई, दो की स्थिति नाजुक

सीतामढ़ी :- बच्चा चोर के अफवाह में तीन युवक की जमकर पिटाई, दो की स्थिति नाजुक

सागर कुमार, चम्पारण टुडे, सीतामढ़ी (ब्यूरो)

सीतामढ़ी :- जिला मुख्यालय में स्थित बीते एक हफ्ते से बच्चा चोरी को लेकर अफवाह उड़ रही है। इस अफवाह का शिकार हुए लोग कानून अपने हाथ में ले रहे हैं। बिना सोचे समझे किसी पर भी बच्चा चोर होने का शक जाहिर कर मारपीट कर रहे हैं। गुरुवार को शहर के मधुबन चौक पर एक कार सवार ने झोपड़ी में ठोकर मार दी जिसके बाद ग्रामीण गाड़ी का पीछा करने लगे।

घबराकर भाग रहे ड्राइवर का संतुलन बिगड़ गया और परोरी पुल के पास गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसी बीच स्थानीय लोगों में यह अफवाह फैल गई कि गाड़ी सवार बच्चा चोर है। ग्रामीणों ने कानून को अपने हाथ में लिया और बिना सोचे समझे कार सवार तीन युवकों की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस के जवानों ने कड़ी मशक्कत से तीनों को ग्रामीणों के चंगुल से निकालकर अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल तीनों घायल युवकों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है।

तीनों युवक रुनीसैदपुर के मानिक चौक के रहने वाले हैं। इनमें से राकेश गुप्ता नामक व्यक्ति ने गाड़ी खरीदी थी जिसका पूजा कराने व जानकी मंदिर आए थे। पूजा के बाद तीनों दोस्त चकमहिला होकर अपने घर जा रहे थे। इधर बीते एक हफ्ते से बच्चा चोरी को लेकर अफवाह उड़ रही है। इस अफवाह का शिकार हुए लोग कानून अपने हाथ में ले रहे हैं। बिना सोचे समझे किसी पर भी बच्चा चोर होने का शक जाहिर कर मारपीट कर रहे हैं। गुरुवार को शहर के मधुबन चौक पर एक कार सवार ने झोपड़ी में ठोकर मार दी जिसके बाद ग्रामीण गाड़ी का पीछा करने लगे। घबराकर भाग रहे ड्राइवर का संतुलन बिगड़ गया और परोरी पुल के पास गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसी बीच स्थानीय लोगों में यह अफवाह फैल गई कि गाड़ी सवार बच्चा चोर है। ग्रामीणों ने कानून को अपने हाथ में लिया और बिना सोचे समझे कार सवार तीन युवकों की बेरहमी से पिटाई। सूचना पर पहुंची पुलिस के जवानों ने कड़ी मशक्कत से तीनों को ग्रामीणों के चंगुल से निकालकर अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल तीनों घायल युवकों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। तीनों युवक रुनीसैदपुर के मानिक चौक के रहने वाले हैं। इनमें से राकेश गुप्ता नामक व्यक्ति ने गाड़ी खरीदी थी जिसका पूजा कराने व जानकी मंदिर आए थे। पूजा के बाद तीनों दोस्त चकमहिला होकर अपने घर जा रहे थे।