सीतामढ़ी :- भारत-नेपाल बार्डर पर 41 लाख रुपए के साथ दो युवक गिरफ्तार

सीतामढ़ी :- भारत-नेपाल बार्डर पर 41 लाख रुपए के साथ दो युवक गिरफ्तार

-- हेलमेट में पैसे छिपाकर बार्डर पार रहा था शख्स

-- निशानदेही पर भिट्ठामोड़ में मोबाइल दुकान में हुई छापेमारी,

-- से मिले 11.96 लाख नेपाली और 17.90 लाख भारतीय रुपये,

-- पकड़े जाने पर कबूलनामा- रोज इसी रास्ते भारतीय व नेपाली रुपये की खेप इधर-उधर पहुंचाता है,

सागर कुमार, चम्पारण टुडे, सीतामढ़ी (ब्यूरो)

सीतामढ़ी :- भारत-नेपाल सीमा के भिठ्ठामोड़ बॉर्डर बना हवाला कारोबारियों का सेफ जोन, वैसे जिले से सटे नेपाल के आधे दर्जन से ज्यादा इंडोनेपाल बॉर्डर क्षेत्र मौजूद है। जिसमे बैरगनिया, मेजरगंज, चुरौत शामिल है।जो हवाला कारोबारियों के साथ मादक पदार्थों के तस्करी का सेफ जोन बना हुआ है। इस दौरान भिठ्ठा ओपी ने करीब 41 लाख भारतीय व नेपाली करेंसी के साथ दो युवकों को बुधवार की शाम गिरफ्तार किया है।

बताया गया है की इस रूट से होने वाली भारतीय और नेपाली करेंसी की हवाला कारोबार की सूचना पुलिस को पहले से थी। गिरफ्तार युवक को एक गुप्त सूचना के आधार पर ही भिट्ठामोड़ ओपी की पुलिस ने बुधवार को दो अलग-अलग स्थानों से दोनों को दबोचा। उनके पास से भारतीय और नेपाली करेंसी की बरामदगी से हड़कंप मच गया। ओपी प्रभारी प्रेमजीत सिंह के अनुसार, गिरफ्तार मनीष कुमार नामक युवक अपनी बाइक से हेलमेट में 10.93 लाख की नेपाली करेंसी छिपाकर श्रीखंडी भिट्ठा की ओर से खुली सीमा को पार करने की कोशिश कर रहा था। इसी दौरान संदेह के आधार पर उसको धर लिया गया। उसकी निशानदेही पर भिट्ठामोड़ में एक मोबाइल दुकान में छापेमारी की गई। जहां से 11.96 लाख नेपाली और 17.90 लाख भारतीय करेंसी बरामद हो गई। दुकानदार को भी गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उसने बताया कि यह उसका रोजाना का काम है। वह प्रतिदिन इसी रास्ते से भारतीय करेंसी भारत में और नेपाली करेंसी नेपाल में बदलने के लिए ले जाया करता है। ओपी प्रभारी ने जब्त करेंसी के संबंध में अन्य जानकारी को राज ही रहने दिया है। इतना बताया कि इस रैकेट में शामिल अन्य लोगो की तलाश की जा रही है।