ओटीपी की भेंट चढ़ी रबी फसल की बोआई,ओटीपी के इंतजार में किसान परेशान, रबी फसल की बुआई में हो रही देरी।

ओटीपी की भेंट चढ़ी रबी फसल की बोआई,ओटीपी के इंतजार में किसान परेशान, रबी फसल की बुआई में हो रही देरी।

सागर कुमार,,सीतामढी,,
सीतामढ़ी :- ओटीपी की भेट चढा रवि फसल की बुआई, बतादें कि जिले के सुरसंड प्रखंड में गेंहू की बुआई मध्य चरण में चल रही है। लेकिन समय पर अनुदानित दर पर रबी फसल की बीज नही मिलने से किसान परेशान और हताश है। किसान को बीज प्राप्त करने के लिए किसान पंजीयन संख्या से बिहार राज्य बीज निगम लिमिटेड के वेबसाइट पर अप्लाई करना होता है। फिर ओटीपी लेकर विभाग के पंजीकृत डीलर के यहाँ से किसान बीज प्राप्त करते हैं।


मोतिहारी: जिलाधिकारी ने जारी किया दुकान खोलने का नया...

इस वेबसाइट पर किसान अपना पंजीयन डालकर आवश्यकतानुसार स्वेच्छा से अनुदानित दर पर रबी के कई बीज प्राप्त करते हैं। लेकिन कुछ दिनों से वेबसाइट पर किसान अप्लाई तो करते हैं। लेकिन किसानों को ओटीपी के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। तो कुछ किसान गेंहू फसल विलंब न हो जाए इस कारण वस नीजी दूकान से बीज खरीद कर अपने फसल की बुआई कर चुके, लेकिन अबतक ओटीपी नहीं आया। 
तो कई किसान एक सप्ताह से आवेदन कर अभी भी ओटीपी के इंतजार में बैठे है। किसानों में आक्रोश के साथ उदासी छाया हुआ है। उनका मानना है कि हरेक साल हम लोगों के साथ यही बरबरता होता है। सरकार और कृषि विभाग के बस लंबे लंबे वादे हैं। धरातल पर कुछ देखने को नहीं मिलता है। किसान क्या करें लगातार तीन फसलों में किसानों को कुछ हाथ नहीं लगा है। एक फसल बाढ़, एक फसल ओलावृष्टि तो एक फसल बाढ़, जो बचा रह गाय वो नये में उत्पन्न एक प्रकार का कीड़ा काट कर बर्बाद कर दिया।


मनरेगा द्वारा संचालित योजना में लगभग 75000 श्रमिकों...

क्या कहते हैं कृषि समन्वयक :-  

कृषि समन्वयक सुनील कुमार कहते हैं कि वेबसाइट में कुछ सुधार हुआ है। जिससे एक सप्ताह से किसानों को ओटीपी जाने में समस्या हो रही है।अधिकारियों का खुद का भी लॉगिन नहीं खुल रहा। अचानक ऐसा हुआ है। किसानों का काफी फोन का सामना करना पड़ा रहा है,। मैं उच्च स्तरीय अधिकारियों के संपर्क में हूँ ।जैसे ही सब समान्य हो जाता है किसानों को बीज लेने हेतु ओटीपी मिलने लगेगा।

क्या कहते हैं जिला कृषि पदाधिकारी :

जिला कृषि पदाधिकारी अनिल कुमार यादव का कहना है कि ओटीपी का समयावधि 45 दिनों का होता है। एक महीने पहले जिनका अप्लाई हुआ है। उनकों ओटीपी मिला है, और वो अपना बीज भी ले चुके है। किसान खुद से अप्लाई नहीं कर रहे है।वो तो कृषि समन्वयक के माध्यम से हो रहा है।अगर खुद से भी अप्लाई किए होंगे तो एक सप्ताह में उनको ओटीपी मिल जाएगा।


समाहरणालय के सभागार में विधानसभा चुनाव को लेकर स्वीप...