रेलवे की तत्काल ई टिकट बना कर अधिक दाम पर बेचने वाले ट्रेवल एजेंसी के मालिक और नौकर हिरासत में,जेल

रेलवे की तत्काल ई टिकट बना कर अधिक दाम पर बेचने वाले ट्रेवल एजेंसी के मालिक और नौकर हिरासत में,जेल

सागर कुमार,, सीतामढ़ी,,


अग्रसर सामाजिक एवं शैक्षणिक सेवा संस्थान द्वारा जरूरत...

सीतामढ़ी :- तत्काल रेलवे ई- टिकट के कारोबारियों के खिलाफ स्थानीय रेलवे सुरक्षा बल का डंडा आज भी चली। इस दौरान एक ट्रेवल एजेंसी में छापेमारी कर दुकान के मालिक के साथ उसके स्टाफ को भी हिरासत में लिया गया। हिरासत में लिए गए। दोनों व्यक्ति पर अवैध तरीके से रेलवे ई टिकट निकालकर अधिक दान पर बेचे जाने का आरोप लगाया गया है।


प्रखंड प्रमुख ने किया पंचायत सरकार भवन धोवगामा पूसा...

क्या कहते है आरपीएफ कमांडर :-

इस बाबत पूछे जाने पर स्थानीय रेलवे सुरक्षा बल के कमांडर अनिता कुमारी ने बताया कि पूर्व से सूचना मिल रही थी, कि उक्त फोटोस्टेट की दुकान में अवैध तरीके से रेलवे की तत्काल टिकट निकाल कर बेची जाती है। जिसका शिकायत स्थानीय लोगों द्वारा समस्तीपुर मंडल सुरक्षा आयुक्त को भी किया गया था। जिसके मद्देनजर समस्तीपुर मंडल सुरक्षा आयुक्त अंशुमान त्रिपाठी के निर्देश पर स्थानीय रेलवे सुरक्षा बल का एक टीम गठित किया गया। जिस टीम का नेतृत्व उप निरीक्षक चंदन कुमार सिंह कर रहे थे। इस टीम में सउनी टी शिव बहादुर, मनोज कुमार सिंह के अलावा आरक्षी अजय कुमार चौहान, देवेंद्र कुमार के अलावा स्थानीय पुलिस टीम मौजूद थी। उन्होंने बताया कि मेहसौल चौक स्थित आशियाना काम्प्लेक्स में पटना फोटोकॉपियर रेलवे आरक्षण आनलाईन दुकान में छापेमारी की गई। इस दौरान दुकान में मौजूद दो लोगो कि उपस्थिति मिली।

जिसमे,  मेहसौल थाना क्षेत्र के खेलाफतबाग़ वार्ड संख्या 27 निवासी इलियास आलम मूल्ला के 40 वर्षीय पुत्र यानी दुकान का संचालक मो मनव्वर आलम उर्फ टिंकू तथा दूसरा बतौर कर्मचारी मेहसौल पूर्वी, रहमानिया मुहल्ला वार्ड 5 निवासी मो करीब के 21 वर्षीय पुत्र मो एजाज को पाया गया। तथा उनके आस मौजूद सिस्टम के साथ मोबाइलों की डाटा खंगाला गया।  इस दौरान मौजूद लैपटॉप और दोनो व्यक्ति के पास मौजूद मोबाईल को चेक करने पर कई प्रधानल आईडी से तत्काल रेलवे की कई ई टिकट  का डाटा एंट्री पाया गया। इस दौरान चेक कराने पर दुकान के संचालक के सिस्टम से पूर्व में काटे गए रेलवे की कुल 19 अदद तत्काल रेलवे की ई टिकट बनाने की बात सामने आया। जिसका लागत मूल्य 34,552.04/-  का बना हुआ प्या गया।


बिहार के मुंगेर में फिर बवाल, गुस्साई भीड़ ने थाने...

पूछ टाछ कराने पर दुकानदार कोई संतोष जनक बात नहीं बताई। उसके बाद कार्यवाही करते हुए अधिकारियों ने दुकान के बतौर स्टाफ का मोबाईल को खंगाला । इस दौरान इसके ,मोबाईल से 20934.91 रुपया का पूर्व में बनाए गए ग्यारह टिकट का व्यूरा मिला। तथा एक अदद नया आगामी तत्काल रेलवे की ई टिकट बना हुए मिला। जिसका पीएनआर 6344144617 पाया गया। जीस टिकट का मूल्य  4534.58/-  पाया गया। इस दौरान उक्त दुकान पर मौजूद मालिक और स्टाफ के पास से कुल 31 अदद अवैध रेलवे की ई टिकट का ब्योरा मिला। जिसका लागत राशि 60021.53/= था। पुलिसिया कार्रवाई  से घबराकर दोनों व्यक्ति ने अपनी ग़लती को स्वीकार किया। अपने द्वारा बनाए गए भिन्न भिन्न आईडी से अवैध रेलवे की ई टिकट बनाकर अधिक दाम पर बेचने की बात कबूल किया।


तुरकौलिया में विधायक राजेन्द्र राम ने डीजल-पेट्रोल...

इधर कागजी कार्यवाही करते हुए रेलवे सुरक्षा बल दुकान से मौजूद टिकट बनाने वाले स्टूमेंट को सिच करते हुए दुकान के मालिक और कर्मचारी को गिरफ्तार करते हुए अग्रिम कार्रवाई के लिए रेल न्ययालय समस्तीपुर भेज दिया है। इस कार्यवाही के बाद शहर ही नहीं पूरे जिला के टिकट दलालो के बीच हड़कंप मचा हुआ है।


स्वतंत्रता दिवस के आयोजन को लेकर समस्तीपुर जिला अधिकारी...