ग्रामीण इलाकों में हाई वोल्टेज झूलते विद्युत सप्लाई तार के चपेट में आने से एक साथ दो बच्ची कि इह लीला समाप्त हुई, सड़क जाम आक्रोशित लोग।

ग्रामीण इलाकों में हाई वोल्टेज झूलते विद्युत सप्लाई तार के चपेट में आने से एक साथ दो बच्ची कि इह लीला समाप्त हुई, सड़क जाम आक्रोशित लोग।

रपट, सागर कुमार सीतामढ़ी,,
सीतामढ़ी :-  गांव, कसवा, बाजार से लेकर शहर के बीचों बीच दौर रही विद्युत सप्लाई की हाई वोल्टेज तार को जब तक उसे हटा कर बाईपास से नहीं निकला गया। तब तक इस तरह की घटना होती रहेगी। आदमी से लेकर जानवर तक इसके चपेट में आकर दम तोड़ते रहेंगे। जिले के बीचों बीच या विभिन्न प्रखंडों में आज भी कहीं 11 हजार तो कहीं 33 हजार तो कहीं 44 हजार वोल्ट की विद्युत सप्लाई तार दौरी हुई है। जो किसी भी वक्त कोई भी इसके चपेट में आ सकते। जिसका कारण है हर जगह बड़े बड़े इमारतें बन रही है। जो उक्त विद्युत सप्लाई की हाई वोल्टेज तार के आस पास है।


बिहार में अभी नहीं होगा चुनाव, कोरोना और बाढ़ के कारण...

विद्युत सप्लाई तार से ऊंची तथा तार से सटे हुए बनती जा रही भवन जो आने वाले समय में एक बड़ी अप्रिए घटना की सूचक बन सकती है। जिस बात से राज्य सरकार से लेकर विद्युत विभाग तक अवगत है। बाबजूद हाई वोल्टेज तार को बिजी जगह से हटाने की नाम नहीं ले रहे है। उक्त बातें बथनाहा थानाक्षेत्र के मझौलिया पंचायत के योगिबना गांव निवासियों का कहना है। बता दें कि कुछ इसी तरह की घटना मंगलवार की सुबह की है। जहां बिजली की झूलते तार की चपेट में आने से दो नाबालिग बच्ची की मौत हो गई है। जिससे स्थानीय लोग आक्रोशित है। मृतिका की पहचान स्थानीय निवासी राजकिशोर राय के सात वर्षीय पुत्री संजना कुमार एवं सुबोध महतो के आठ वर्षीय पुत्री मनीषा कुमारी के रूप में कि गई है।घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने मुआब्जे के लिए गांव के समीप एनएच 77 को जामकर जमकर प्रदर्शन किया।वही वरीय अधिकारियों के आने की मांग पर अड़े रहे।घटना की सूचना पर बीडीओ राजीव कुमार, सीओ गिन्निलाल प्रसाद थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने मौके पर पहुचकर लोगों को समझा बुझाकर मुआब्जे का अस्वाशन देकर जाम समाप्त कराया। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के सदर अस्पताल सीतामढ़ी भेजदिया है।


मेहसी डोनेशन ड्राइव क़े तरफ से लगातार किया जा रहा...

जाम समाप्ति के बाद सदर एसडीओ राकेश कुमार एवं डीएसपी रमाकांत उपाध्याय ने पहुचकर घटना स्थल की जांच कर बिजली विभाग मुख्य अभियंता से बात कर अबिलम्ब झूलते तार को ठीक करने का अस्वाशन दिया। मृतका के स्वजनों को ढांढस बंधाया। दो घंटे तक की गई हाइवे सड़क जाम के कारण दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतार लग गई।जिसे यात्रियों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।जानकारी के अनुसार मंगलवार को संजना व मनीषा अन्य दिनों की भांति खेलने के लिए घर से निकल ही रही थी। पोल से लुढ़के बिजली के तार की चपेट में आगई जिसे संजना की मौत घटना स्थल पर ही हो गई। वही मनीष झुलश कर गंभीर रूप से जख्मी हो गई।जिसे इलाज के लिए सीतामढ़ी लेजाने के दौरान रास्ते मे ही उसकी मौत हो गई।दो बच्ची की एक साथ हुई मौत से पूरे गांव में मातमी सन्नाटा पसरा है। वही मां संगीता व रिंकी देवी की रो -रो कर बुरा हाल है।